HomeNEWSअमेरिका में क्रिप्टो फ्रॉड करते पकड़े गए दो भारतीय भाई, हो सकती...

अमेरिका में क्रिप्टो फ्रॉड करते पकड़े गए दो भारतीय भाई, हो सकती है 20 साल की सजा

-

Follow us

13,340FollowersFollow

 

भारत के दो भाइयों ईशान वाही और निखिल वाही को क्रिप्टो फ्रॉड में कथित संलिप्तता के चलते अमेरिका में मुकदमे का सामना करना पड़ेगा। दोनों ने, अपने भारतीय-अमेरिकी मित्र समीर रमानी के साथ मिलकर कथित तौर पर पहली क्रिप्टो इनसाइडर ट्रेडिंग योजना में गैरकानूनी लाभ कमाया है। उनपर अवैध सौदे से कुल 1 मिलियन डॉलर की राशि जुटाने का आरोप है। अगर आरोप साबित होते हैं तो उन्हें 20-20 साल की सजा हो सकती है।

न्यूयॉर्क के दक्षिणी जिले के अमेरिकी अटॉर्नी डेमियन विलियम्स ने दोनों भारतीय भाइयों और उनके सहयोगियों से जुड़े अभियोग को उजागर करने का खुलासा किया। इसी तरह, फेडरल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन (FBI) में न्यूयॉर्क फील्ड ऑफिस के सहायक निदेशक इन-चार्ज, माइकल ड्रिस्कॉल ने संकेत दिया कि संदिग्धों पर वायर फ्रॉड के आरोप हैं।

ड्रिस्कॉल ने खुलासा किया कि संदिग्धों ने क्रिप्टोकरेंसी संपत्तियों में इनसाइडर ट्रेडिंग को बनाए रखने के लिए इस स्कीम का इस्तेमाल किया था। सहायक निदेशक के अनुसार, कॉइनबेस पर क्रिप्टो संपत्ति की गोपनीय जानकारी का इस्तेमाल करके इसे अंजाम दिया गया। उन्होंने आगे कहा कि आरोपियों ने अवैध अधिनियम को बनाए रखने के लिए एक्सचेंज पर सूचीबद्ध होने वाली संपत्ति के बारे में जानकारी हासिल की। इसके अलावा, अमेरिकी SEC ने तीन संदिग्धों के खिलाफ एक इनसाइडर ट्रेडिंग का मुकदमा भी दायर किया है।

अटॉर्नी बोले- धोखेबाजों पर कानूनी कार्रवाई करेगा न्यूयॉर्क साउदर्न डिस्ट्रिक्ट

अमेरिकी अटॉर्नी का कहना है कि दो भारतीय भाइयों और उनके दोस्तों के खिलाफ लगे आरोप वेब 3 को एक विनियमित क्षेत्र के रूप में साबित करते हैं। उन्होंने बताया कि कैसे पिछले महीने उNFT से जुड़े इनसाइडर ट्रेडिंग के पहले मामले का उन्होंने खुलासा किया था। अब, विलियम्स का कहना है कि वह क्रिप्टो बाजारों से जुड़े पहले इनसाइडर ट्रेडिंग के मामले का खुलासा कर रहे हैं। अटॉर्नी के मुताबिक अथॉरिटी अपराधियों को सजा देकर दूसरों को कड़ा संदेश देना चाहती है। उनके अनुसार, धोखाधड़ी एक अपराध है, चाहे वह कहीं भी और किसी भी रूप में हो। इसके अलावा, वह हर धोखेबाज को न्याय के कटघरे में लाने के लिए न्यूयॉर्क के दक्षिणी जिले की प्रतिबद्धता की पुष्टि करते हैं।

जांच के मुताबिक, दोनों भारतीय भाई सिएटल में रहते हैं जबकि उनका दोस्त रमानी ह्यूस्टन में रहता है। ईशान और निखिल दोनों को गुरुवार को सिएटल में पकड़ा गया। अब, वे वाशिंगटन के पश्चिमी जिले में युनाइटेड स्टेट्स डिस्ट्रिक्ट कोर्ट में मुकदमों का सामना करेंगे। रिपोर्ट्स के मुताबिक रमानी अभी भारत जाने की फिराक में है। हालांकि, इन तीनों संदिग्धों के खिलाफ लगे आरोप उनके 25 अलग-अलग क्रिप्टोकरेंसी के अवैध व्यापार में शामिल होने का संकेत देते हैं।

जांच से पता चलता है कि ईशान के खिलाफ वायर्ड फ्रॉड की साजिश रचने और वायर फ्रॉड करने के आरोपों में 20-20 साल की सजा हो सकती है। इसी तरह निखिल और रमानी को भी इन्हीं आरोपों के चलते 20-20 साल की सजा होने की संभावना है।

Most Popular