HomeNEWSफिशिंग स्कैम से हैकर्स ने चुराए 4.38 लाख डॉलर के क्रिप्टो...

फिशिंग स्कैम से हैकर्स ने चुराए 4.38 लाख डॉलर के क्रिप्टो और NFT

-

Follow us

13,967FollowersFollow

 

लोकप्रिय NFT क्रिएटर और 3D आर्टिस्ट माइक विंकेलमैन (Beeple के नाम से मशहूर) का ट्विटर अकाउंट बीते रविवा को हैकर्स ने फिशिंग स्कैम की कोशिश में हैक कर दिया। हो सकता है कि इस हैक के जरिए हाल ही में लुई वीटन लग्जरी फैशन आउटफिट के साथ बीपल की साझेदारी का फायदा उठाया गया हो।

महीने की शुरुआत में Beeple ने Louis Vuitton के 3D मोबाइल गेम ‘Louis The Game’ की डिजाइन में मदद के लिए 30 नॉन फंजीबल टोकन NFT की मदद की थी। इसके बाद रविवार को Beeple के ट्विटर अकाउंट से ट्वीट नहीं हुए।

हैक के बारे में

MetaMask सिक्योरिटी एनालिस्ट Harry Denely के मुताबिक Beeple के रविवार के ट्वीट में नकली लुई वुइटन NFT रैफल के रूप में हानिकारक लिंक थे। वो वास्तव में फिशिंग लिंक थे, जिन पर एक बार क्लिक करने पर यूजर्स के क्रिप्टो वॉलेट खाली हो सकते थे।

5 घंटे से ज्यादा समय तक हैकर Beeple के ट्विटर अकाउंट से तरह-तरह के फिशिंग लिंक पोस्ट कर रहे थे। उन्होंने पीड़ितों को दुर्लभ और अनोखे NFT के लिए फ्री मिंट देने का वादा किया, और पीड़ित फर्जी नकली Beeple कलेक्शन पर चले गए।

इस बीच, एक स्कैमर के वॉलेट के ऑन-चेन रिकॉर्ड से पता चला कि उसने सिर्फ पहले फिशिंग लिंक से ही 36 एथेरियम (ETH) कमा लिए। उस समय इसकी कीमत लगभग 73,000 डॉलर थी।

इसी दौरान पोस्ट के दूसरे लिंक से भी स्कैमर ने करीब 180 ETH बनाए। इस ETH की कीमत 365,000 डॉलर थी। इसी लिंक के जरिए स्कैमर्स ने VeeFriends, Mutant Ape Yacht Club (MAYC) समेत कई हाई वैल्यू वाले NFT भी हासिल कर लिए।

इस स्कैम के बारे में खुलासा होते ही जब Denely ने गणना की, तो पता चला कि हैक के जरिए कुल 438,000 डॉलर की डिजिटल संपत्ति की चोरी हो गई है।

अब सबसे दिलचस्प बात यह है कि Beeple ने बाद में ट्वीट किया कि उन्होंने अपना अकाउंट वापस ले लिया है। लेकिन अपने फॉलोअर्स को वार्निंग देने का अवसर जब्त कर लिया है। इससे पता चलता है कि यह एक स्कैम हो सकता है और इनसे दूर रहना चाहिए।

फिशिंग स्कैम बन रहा खतरा

यह ध्यान रखना बहुत जरूरी है कि हाल ही में फिशिंग स्कैम की एक लहर आई है। खास तौर पर NFT की दुनिया में फिशिंग स्कैम बढ़ रहे हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि जालसाज NFT प्रचार से अवैध पैसा बनाने की कोशिश करते हैं। हाल ही में, साइबर सिक्योरिटी फर्म Malwarebytes ने मई महीने की शुरुआत में एक रिपोर्ट जारी की, जिसमें दावा किया गया कि जालसाजी के संचालन का सबसे आम तरीका वैध प्लेटफॉर्म के रूप में धोखाधड़ी वाली वेबसाइटों का इ्स्तेमाल है। दूसरे शब्दों में, फिशिंग उनका सबसे आम तरीका है।

वहीं, इस तरह के हमले में Beeple बिल्कुल नए नहीं है। नवंबर 2021 में, Beeple के Discord के एडमिन अकाउंट पर भी ऐसा ही हैक हुआ था। इस बार की तरह ही जालसाज नकली NFT ड्रॉप को बढ़ावा दे रहे थे, जिससे यूजर्स को करीब 38 ETH का नुकसान हुआ था।

Most Popular